Monday, 30 July 2012

आंस की लकीर..


छोटीसी.. पगलीसी..
आंस की लकीर..
पार करनी है..
पहुंचना है..तुम तक..
जहां तुम और मैं..
हम... बसायेंगे...
उस जहां को..
जहां तुम..तुम ना रहोगे..
मैं..मैं न रहुंगी..
तुम और मै हम हो जायेंगे..
बस खुशियां चमकेगी..
चहकेगी..झुमेंगी..गायेगी..
ललकेगी..
लहलहा उठेगी..जीवन में बहार..
आंस की उस लकिर को..
करनी है पार...

?
२५.७.२०१२





No comments:

Post a Comment