Monday, 30 July 2012

कच्ची डोर है...संभाले रखना


कच्ची डोर है...संभाले रखना
सयाने हो तुम...खयाल रखना...
मां की दुआ साथ रहेगी सदा...
कदम जमिन पर गडाये रखना...

साथ लेते जा..आंधी तुफ़ान
हवा का रुख समझायेंगे तुझे..
मस्ती लुटाना लहरोंपर..पर
नजर जमिन पर गडाएं रखना..

ममता नही रोकेगी तुझे..
आज हिम्मत का साथ देने
किस्मत की सुई दिखाए रास्तां
पर आज जमिन से जुडे रहना

सफ़लता या असफ़लता..
नही देखना मेरे बेटें
बनजा मगर एक इन्सां अच्छा..
और कर्ज इस जमीं का चुकाना..

?
१०.७.२०१२


No comments:

Post a Comment